Advertisements

किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF Hindi Download

नमस्कार मित्रों, इस पोस्ट में हम आपको किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF देने जा रहे हैं। आप नीचे की किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF Hindi Download कर सकते हैं और आप यहां से  कुमारसंभव इन हिंदी पीडीएफ भी पढ़ सकते हैं।

 

 

 

किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF

 

 

 

 

 

 

किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF Hindi Download

 

 

 

Advertisements
किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF Hindi Download
किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF Hindi Download नीचे दी गयी लिंक से करे।
Advertisements

 

 

 

About This Book

 

 

तत्कालीन रसिक समुदाय ने महाकवि भारवि को अत्यंत सम्मान दिया था। उन्हें ‘आतपत्रभारवि’ की उपाधि भी मिली थी। जिस पद्य के कारण कवि को यह प्रतिष्ठा मिली थी वह किरात के पंचम सर्ग में इस प्रकार है। पुष्पित कमलिनियों के वनप्रान्त से उत्पन्न कमल पुष्प चूर्ण आकाश के चारो ओर वातचक्र से आंदोलित होकर इस प्रकार सुशोभित हो रहा है।

 

 

 

मानो कनकक्षत्र तन उठा है। कितनी अनूठी कल्पना है कवि की इससे कवि की कल्पनाशक्ति के साथ-साथ उसकी सौंदर्यात्मक अनुभूति का भी हमे ज्ञान होता है। भारवि परमशैव थे। यह तथ्य उनके कथानकचयन से ही सिद्ध हो जाता है। ग्रंथ के 18वे सर्ग में कवि ने अर्जुन के मुख से भगवान पशुपति की जो भावभीनी स्तुति कराई है वह उनकी वैयक्तिक शिवभक्ति का ही स्वर है।

 

 

 

कवि की एक मात्र उपलब्धि उसका महाकाव्य ‘किरातार्जुनीयम’ है जिसकी गणना ‘वृहत्रयी’ काव्यों में की जाती है। इसमें कुल 18 सर्ग तथा 1040 श्लोक है। तीसरी समस्या यह है कि महाकाव्य है क्या? और एक महाकाव्य के रूप में किरात के वैशिष्ट्य है?

 

 

 

Note- इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है और ना ही इसे हमारे सर्वर पर अपलोड किया गया है।

 

 

 

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें newsbyabhi247@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे।

 

 

 

 

 

 

 

Download Here
Advertisements

 

 

 

राघवयादवीयम् ग्रंथ का हिन्दी अनुवाद पीडीऍफ़ डाउनलोड  

 

 

 

Rang Bhumi Novel PDF By Premchand Hindi Download यहां से करे। Download Now
Atit Ke Swapn Novel PDF In Hindi Download यहां से करे। Download Now
Karnal Ranjeet Novel Hindi Pdf यहां से डाउनलोड करे। Download Now

 

 

 

 

मित्रों यह पोस्ट किरातार्जुनीयम् प्रथम सर्ग PDF आपको कैसी लगी जरूर बतायें और इस तरह की पोस्ट के लिये इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

इसे भी पढ़ें —-भारवेरर्थगौरवम् Pdf

 

 

 

Leave a Comment

Advertisements